Tanot Mata Temple History

tanot mata jaisalmer

Tanot Mata Jaisalmer

Tanot Mata Temple History

तनोट माता का मंदिर वहां के लोकल लोगो के लिए एक श्रद्धेय स्थान है | लेकिन 1965 के भारत पाकिस्तान युद्ध में तनोट माता के चमत्कार के बाद, यह मंदिर भारतीय सेनिको और सीमा सुरक्षा बलों के लिए विशेष श्रद्धेय स्थान बन गया है |

तनोट माता (आवड माता) का मंदिर जैसलमेर से 130 किलोमीटर दूर स्थित है | तनोट माता को हिंगलाज माता का रूप भी माना जाता है | वर्तमान में हिंगलाज माता का शक्तिपीठ पाकिस्तान के लासवेला जिले के बलोचिस्तान प्रान्त में स्थित है |

Must Read ⇒ History of Chamunda Mata Jodhpur

1965 में, भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध छिड़ गया | तनोट पर हमला करने से पहले पाकिस्तानी सेना ने बुएली (किशनगढ़ से 74 किलोमीटर पूर्व में), सादेवाला से शाहगढ़ पच्छिम में, और उत्तर में अचरी टिब्बा से 6 किलोमीटर दूर तक क्षेत्र पर कब्ज़ा कर लिया था | तनोट तीनो दिशाओं से घिर चूका था | अगर एक बार शत्रु तनोट पर कब्ज़ा कर लेते तो, शत्रु रामगढ से शाहगढ़ का एरिया अपने कब्जे में ले सकते थे | इसलिए तनोट दोनों सेनाओं के लिए महत्वपूर्ण था |

17 से 19 नवंबर 1965, तनोट पर तीन दिशाओं से शत्रु ने भारी बमबारी की | शत्रु तनोट पर लगातार तोप के गोले छोड़ रहे थे | इसलिए तनोट को बचाने के लिए, 13th ग्रेनेडियर्स के मेजर जय सिंह के हाथ कमांड सोपी गई | एक कंपनी और BSF की 2 कम्पनिया पूरी दुश्मन सेना का सामना कर रही थी |

जैसलमेर से तनोट जाने वाली रोड पर, गनतली माता मंदिर के पास शत्रु ने एंटी-पर्सनल और एंटी-टैंक माइंस लगाकर तनोट जाने वाली सप्लाई को रोक दिया था |

तनोट माता मंदिर के आसपास शत्रु ने लगभग 3 हज़ार बेम के गोले फेंके | लेकिन अधिकांश तोप के गोले चमत्कारिक रूप से अपना लक्षय भटक गए | मंदिर को अकेले निशाना बनकर 450 गोले दागे गए | लेकिन चमत्कारिक रूप से एक भी गोला मंदिर को अपना निशाना नहीं बना सका और मंदिर के आसपास गिर गया और नहीं फटा | मंदिर को एक खरोंच भी नहीं आई और मंदिर आज भी यु का यु खड़ा है |

miracle of tannot mata

Miracle of Tannot Mata

यह सोचकर की माता हमारे साथ है, कम संख्या में होने के बावजूद हमारे सेनिको ने पुरे आत्म विश्वास के साथ दुश्मन पर हमला कर दिया और हज़ारो दुश्मनो को मोत के घाट उतारा | शत्रु सेना भागने को मजबूर हो गयी |

यह कहा जाता है की माँ सेनिको के सपने में आई और उनसे कहा की जब तक तुम मंदिर परिशर में रहोगे में तुम्हारी रक्षा करुँगी | इस तरह तनोट पर हमारी जीत हुई और देश के न्यूज़ पेपर ने इस चमत्कार और हमारी जीत की हैडलाइन बनायीं |

एक बार फिर 4 दिसंबर 1971 की रात को, सीसुब की एक कंपनी और पंजाब रेजिमेंट की एक कंपनी ने माँ के आशीर्वाद के साथ विश्व की महान लड़ाइयों में से एक लोंगेवाला की लड़ाई लड़ी | पूरी पाकिस्तानी टैंक रेजिमेंट को ध्वस्त कर दिया गया | भारतीय सेना ने लोंगेवाला को पाकिस्तानी टैंकों की कब्रगाह बना दिया था |

1965 के युद्ध के बाद BSF ने मंदिर के वहां एक चौकी स्थापित की | तथा मंदिर की वयवस्था का भार भी BSF ने अपने हाथो में ले लिया | वर्तमान में मंदिर का प्रबंधन सीसुब रेजिमेंट के एक ट्रस्ट के द्वारा किया जाता है | मंदिर के वहां एक छोटा सा म्यूजियम है, पाकिस्तानी सेना द्वारा फेंके गए वे बेम जो नहीं फटे वो आज भी इसी म्यूजियम में रखे गए है |

सीसुब अब पुराने मंदिर की जगह एक नया और बड़ा मंदिर बना रहा है |

लोंगेवाला की विजय के बाद, मंदिर परिशर में एक विजय स्तंभ बनाया गया है | जहां हर साल 16 दिसंबर को सेनिको की याद में त्यौहार मनाया जाता है |

victory tower tanot mata

Victory Tower Tanot Mata

आश्विन और चैत्र नवरात्री में यहां हर साल एक बहुत बड़े मेले का आयोजन किया जाता है | प्रतिदिन बढ़ती प्रसिद्धि के कारण तनोट अब एक टूरिज्म स्पॉट की तरह उबर रहा है |

tanot mata temple history

Tanot Mata Trust

Mahipal Singh

Khamma Hukum! Hi!! This is Mahipal Singh manager/owner of this blog. I am very simple, truth loving, work dedicated, Electrical Engineering graduate young guy from Jaipur, India. I am a student and a part time blogger. Know more about me And stay connected by joining JaiRajputana on Facebook, Google+, Twitter.

Latest posts by Mahipal Singh (see all)

Comments (15)

  1. Dear Mahipal Singh , Please edit the history of Chhaukar Rajputs on your website Jai Rajputana, as you are the authorized person with the rights. Shall be highly obliged.

    Chhaukar (Chhokar , Chhonker ) is a clan found among Rajputs , who ruled in Rajasthan Karauli.

    Distribution
    There are 78 villages of Chhokar Rajputs in Bulandshahr, Gautam Budh Nagar district . This belt of Rajput Chhokar’s villages goes to Palwal , Faridabad, Gurgaon. There are also 52 villages of Chhokar Rajputs in Aligarh, Hathras, Mathura districts. Some villages of Chhokar Rajput lie near Kama and Bharatpur, Rajasthan. The villages of Rajput and Jaat Chhaukars are found near Agra Mathura and in Kama and Bharatpur, Rajasthan.Samalkha segment and Panipat district of Haryana is dominated by Chhokars Gurjars.There are 24 villages of Chhokars in this region. Also there are 12 villages of Chhokars in Saharanpur district of UP.

    Religious Symbols
    GOD-Lord Krishna, MATA-Anusuiya, DEVI-Chandi Kelavati, GOTRA-Attri, CLAN-Mardhwani, WEAPON-Khadag, VEDA-Yajurveda, VRIKSHA-Neemdev, HORSE-Shyamvarn(Black), COLOUR-Kesariya( Saffron), FLAG-Panchranga(Penta Coloured)

    They are generally married with the girls of Raghav, Tomar, Pundir, Chauhan, Solanki, Sikarwar, Gahlot, Parmar ,Shishodia, Bhati rajputs.
    History
    The history of Chhaukar Rajputs was enlightened from Maharaja Attri and his wife Mata Anusuiya. His elder son Maharaja Som ruled over the empire of Pratishthanpur. That’s why they belong to Somvansh or Chandravansh. In this stream, there borned a great emperor Maharaja Yayati. His elder son Yadu separated his clan and his descendents were entitled as Yaduvanshi Kshatriyas. Lord Krishna, the great son of Maharaja Vasudev and Maharani Devaki was the 48th king of this yaduvanshi stream and he established the kingdom of Dwarikapuri. His existence as God on this earth is admitted by all the religions in this world. His son Aniruddha and grandson Pradyumna were next to this empire.
    After a long passage of time a descendent of this stream Maharaja Karanpal established kingdom of Karauli in Rajasthan and Maharaja Moharpal made Mehrauli in Delhi. In the supervision of Maharaja Karanpal, his great grandsons Helraj and Salwahan ruined the Mevati Muslims around Jewar and conquered whole of the estate in thirteenth century AD. The first village settled by Chhaukars after this battle was Mundreh. Now a days there are 78 villages of Chhaukar Rajputs around Jewar.

    Famous Chhaukars

    Prof Ajai Chhaukar a rajput chhaukar, two times chosen as the president of Akhil Bhartiya Kshattriya Mahasabha(India). Raised many issues to parliament regarding the history of Rajputs, maligned by some shrewd polititions. Prof.Chhaukar is the National President of Rashtriya Jan Sansad,a registered political party which is struggling against cast reservation, corruption and terrorism. In 1998, he was also elected as General Secretary of Uttar Pradesh (Janta Dal). He has been provided the degree of Doctor of Literature( D.Litt) in Geographical Researches.

    Thakur Chhatrapal Singh Chhaukar was the first MLA of Jewar constituency after Independence.

  2. Ham jassa bhati hamari kuldeviji kaha h hamko malum nahi h tanot mataji k mandir me hi h esa pata chala h kya vaha h kya hamare kuldeviji

  3. DEAR BROTHER, PLEASE INTIMATE IF THERE IS ANY TEMPLE IN RAJASTHAN WHERE WINE IS OFFERED IN THE KHAPPAR (SKULL UTENSIL) OF STATUE OF THE GODDESS. (she is perhaps the kula devi of the chauhans)

  4. sir, it is amazing,agreat power on theland of rajasthan,jai tant maa ki,please send mata jis blessed prasad.

    krishnpriya dhar

    jammu,phone…..09419107368

  5. Your comment is awaiting moderation.

    jay sri mata ki jai ho
    prathi GuruDayal Yadavadd vill.kadipu po.shivpu dist varanasi
    ke niwasi hai ye apaki se me tatypar hai jald se jald ummid rakhate hai maa enke karyo ko jald jald pura kare taki apke dar jald aaye maa apse yehi ummid rakhate aur binnti karate hai
    Repl

  6. jay sri mata ki jai ho
    prathi rajesh kumar upadhyay s/o jay ram upadhyay add. vill.& po.andila dist deoria
    ke niwasi hai ye apaki se me tatypar hai jald se jald ummid rakhate hai maa enke karyo ko jald jald pura kare taki apke dar jald aaye maa apse yehi ummid rakhate aur binnti karate hai

  7. jai sri tnot mata ki jay tanot mata hmara nokari lag jay mata hum apke darbar me akar darshan karenge mata mata hum bahut kaphi sal se kapg pareshan hai mata kripa
    kre mata dhyan de
    jay sritanot mata ki jay

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *