History of Chamunda Mata Jodhpur

history of chamunda mata jodhpur

Chamunda Mata Temple Jodhpur

History of Chamunda Mata Jodhpur

1459 में राव जोधा अपने राज्य की राजधानी मण्डोर से मारवाड़ विस्थापित करने के बारे में सोच रहे थे | वह मारवाड़ में एक पहाड़ी पर मेहरानगढ़ किला बनना चाहते थे | जो “माउंटेन ऑफ़ बर्ड्स” के नाम से भी जाना जाता है | लेकिन वह पहाड़ी पहले से ही hermit (Cheeria Nathji, पक्षियों का रखवाला) के कब्जे में थी | इसलिए राव जोधा ने hermit को खदेड़ कर दिया | जब राव जोधा ने hermit को खदेड़ा तो hermit ने राव जोधा को श्राप दिया की तुम्हारे राज्य में हमेशा पानी की कमी रहेगी |

Read Also ⇒ Tanot Mata History

इस समस्या के निस्तारण के लिए, राव जोधा ने किले के दाई और माँ चामुंडा का एक मंदिर बनवाया | तब से माँ चामुंडा जोधपुर की दत्तक (adopted) देवी के के रूप में जानी जाती है | और तब से हर साल नवरात्री और दशहरा पर यहाँ उत्सव मनाया जाता है |

chamunda mata temple jodhpur

Chamunda Mata Temple Jodhpur

चामुंडा माता मंदिर जोधपुर के दक्षिण दिशा में बना हुआ है | यह मंदिर माँ चामुंडा का है जो माँ दुर्गा का रूप मानी जाती है | आप जब मंदिर में जाएंगे तो वहां आपको काले रंग की माँ चामुंडा की मूर्ति दिखेगी | माँ चामुंडा के आलावा यहाँ कालीका देवी, bech rai ji की मूर्ति भी है |

Mahipal Singh

Khamma Hukum! Hi!! This is Mahipal Singh manager/owner of this blog. I am very simple, truth loving, work dedicated, Electrical Engineering graduate young guy from Jaipur, India. I am a student and a part time blogger. Know more about me And stay connected by joining JaiRajputana on Facebook, Google+, Twitter.

Latest posts by Mahipal Singh (see all)

Comments (11)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *